रिवायत है नबी ने फ़रमाया उस बंदे पर रहम फरमा दिया जाता है जो इस नमाज़ से पहले…

हज़रत अली रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सलअल्लाहू अलैही वसल्लम असर से पहले 4 रकात (सुन्नत) पढ़ते थे. जामिया तिरमिज़ी, जिल्द 2, 410-हसन

इब्न उमर रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया अल्लाह सुबहानहु उस बंदे पर रहम फरमाए जो असर से पहले चार रकात (सुन्नत) पढ़े जामिया तिरमिज़ी, जिल्द 2,411-हसन

हज़रत तमीम दारी रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की की रसूल-अल्लाह सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया बंदे से क़यामत के रोज़ सबसे पहले नमाज़ का हिसाब होगा अगर उसकी नमाजें पूरी होंगी तो उसके नवाफिल अलग से लिख दिए जाएँगे.

और अगर उसने नमाजें पूरी नही की होंगी तो अल्लाह सुबहानहु अपने फरिश्तों से फरमाएगा देखो क्या मेरे बंदे के पास नवाफिल हैं ? तो उन नवाफिल के ज़रिए जो फराईज़ उसने ज़ाया कर दिए उनकी तकमील कर दो फिर बाक़ी आमाल का हिसाब भी इसी तरह होगा. सुनन इब्न माजा, जिल्द 1, 1426 सही

Bismillahirrahmanirrahim

Hadith: Allah Subhanhu us bande par raham kare jo asar se pahle chaar rakaat (sunnat) padhe.

Hazrat Ali Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki Rasool-Allah Sallallahu Alaihi wasallam Asar se pahle 4 rakaat (sunnat) padhte they Jamia Tirmizi, Jild 2,410-Hasan

Ibn Umar Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki Rasool-Allah Sallallahu Alaihi wasallam ne farmaya Allah Subhanhu us bande par raham farmaye jo asar se pahle chaar rakaat (sunnat) padhe. Jamia Tirmizi, Jild 2,411-Hasan

Hazrat tameem dari Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki ki Rasool-Allah Sallallahu Alaihi Wasallam ne farmaya bandey se Qayamat ke Roz sabse pahley namaz ka hisab hoga agar uski Namazein puri hongi to uskey Nawafil alag se likh diye jayengey aur agar usney.

namazein puri nahi ki hongi to ALLAH taala apney farishton se farmayega dekho kya mere bandey ke pass Nawafil hain ? to un nawafil ke zariye jo faraaeez usney zaya kar diye unki takmeel kar do phir baqi Aamal ka Hisab bhi isi tarah hoga Sunan Ibn Majah, Vol1, 1426 –Sahih